Monday, September 27, 2010

NGOs means उपनिवेशवादी दमन चक्र का स्पष्ट और यथार्थ चित्रण ! विचारधारा की राजनीति की यांत्रिक दुरवस्था और शिथिलता के वातावरण जहाँ मानवीय भाव के लिए कोई स्थान है ही नहीं ।इतना ही नहीं NGOs समकालीन राजनीति की प्रत्यक्ष भविष्यवाणी भी है ।सत्ता का अपना ही एक चेहरा होता है और उसकी रंगाई पुताई एवं स्वीकार्यता बनाने की एजेंसियाँ NGO के रूप मे हमेशा कार्य करती रहती हैं

असली इंसान की तरह जियेंगे.

कठिनाइयो से रीता जीवन
मेरे लिए नहीं,
नहीं, मेरे तूफानी मन को यह स्वीकार नहीं.
मुझे तो चाहिए एक महान लक्ष्य
और, उसके लिए उम्रभर संघर्षो का अटूट क्रम
ओ कला ! तू खोल
मानवता की धरोहर, अपने अमूल्य कोषों के द्वार
मेरे लिए खोल
अपनी प्रज्ञा और संवेगों के आलिंगन में
अखिल विश्व को बाँध लूंगा में .
आओ,
हम बीहड़ और कठिन सुदूर यात्रा पर चलें
आओ, क्योकि छिछला निरुद्देश्य और लक्ष्यहीन जीवन
हमें स्वीकार नहीं .
हम उंघते, कलम घिसते हुए,
उत्पीडन और लाचारी में नहीं जियेंगे
हम - आकांशा, आक्रोश, आवेग और अभिमान में जियेंगे
असली इंसान की तरह जियेंगे.
- कार्ल मार्क्स

Thursday, September 2, 2010

मुंतजिर चंद घडीयां राह तकती हैं सहर होने की

अब तो इस लिबास को उतर दो कहीं रूह अपना लिबास न उतर दे

आओ अपनी हर साँस पर तुम्हारा नाम 'वफ़ा' लिख दूँ

क्या पता कौन सी बेवफा हो.??

ज़िहाल-ए मिस्कीं मकुन तगाफ़ुल, दुराये नैना बनाये बतियां।


कि ताब-ए-हिजरां नदारम ऎ जान, न लेहो काहे लगाये छतियां।।


शबां-ए-हिजरां दरज़ चूं ज़ुल्फ़ वा रोज़-ए-वस्लत चो उम्र कोताह।


यकायक अज़ दिल, दो चश्म-ए-जादू ब सद फ़रेबम बाबुर्द तस्कीं।


चो शमा सोज़ान, चो ज़र्रा हैरान हमेशा गिरयान, बे इश्क आं मेह।


बहक्क-ए-रोज़े, विसाल-ए-दिलबर कि दाद मारा, गरीब खुसरौ।


The translation is

o not overlook my misery by blandishing your eyes, and weaving tales/ My patience has over-brimmed, O sweetheart, why do you not take me to your bosom./ Long like curls in the night of separation, short like life on the day of our union; / Suddenly, using a thousand tricks, the enchanting eyes robbed me of my tranquil mind;/ Tossed and bewildered, like a flickering candle, I roam about in the fire of love;/In honour of the day I meet my beloved who has lured me so long, O Khusro.